-->

Subhas Chandra Bose Jayanti 2022: नेताजी की 125वीं जयंती

Subhas Chandra Bose Jayanti 2022: भारत में नोटों पर महात्मा गांधी की तस्वीर होती है, लेकिन अब ऐसी मांग देश में उठ रही है, जिसमें कहा गया है कि क्रांतिकारी नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Subhas Chandra Bose) की तस्वीर नोटों पर छपीनि चाहिए।

नेताजी की 125वीं जयंती

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम प्रदीप शर्मा है हाल ही में एक यूट्यूब में वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें कहा गया है भारत के नोटों पर सुभाष चंद्र बोस जी का तस्वीर होगा। यह मांग किसी और ने नहीं बल्कि उनके पढ़पोते चंद्र कुमार बोस ने की है। 

Subhas Chandra Bose Jayanti 2022 नेताजी की 125वीं जयंती
Subhas Chandra Bose Jayanti 2022 नेताजी की 125वीं जयंती


उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है जिसमें उन्होंने कई मांग की है, "नोटों पर सुभाष चंद्र बोस की तस्वीर," आपको बता दें 23 जनवरी 2022 को सुभाष चंद्र बोस की जयंती है और अब नेताजी के परिवार वालों ने  पीएम मोदी से यह बड़ी मांग कर दी है। 9 पॉइंट के पत्र में नेताजी के परिजनों के ओर से कहा गया है कि सुभाष चंद्र बोस के जयंती के मौके पर वे अपना सुझाव दे रहे हैं।

पत्र में लिखा गया है कि "नेता जी के जन्म दिवस 23 जनवरी को राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया जाए" यह उन्हें सम्मानित किया जैसा होगा साथ ही "ट्रेनों के चार डिब्बों को नेताजी मोबाइल संग्रहालय में बदलने की मांग" जिसे देश भर के लोग आजाद हिंद फौज के संस्थापक सुभाष चंद्र बोस के वीरता के बारे में जान सके। 

पत्र में कहा गया है "इंडिया गेट के सामने नेताजी की प्रतिमा स्थापित की जाए" बता दे इसी तरीके की मांग सुभाष चंद्र बोस पर किताब लिखने वाले 'Anuj Dhar' नाम के एक लेखक भी कर चुके हैं उन्होंने ट्विटर पर एक नोट की तस्वीर भी शेयर की थी जिसमें नेताजी के फोटो छपी हुई थी। बता दे नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी 1879 को उड़ीसा के कटक में हुआ था। वे एक संपन्न बंगाली परिवार से सम्बन्ध रखते थे। 

इंडिया सिविल सर्विस की तैयारी के लिए लंदन कैंब्रिज विश्वविद्यालय चले गए 1921 में बढ़ती राजनीति के गतिविधि की समाचार पाकर सुभाष चंद्र बोस भारत लौट आए और उन्होंने सिविल सर्विस छोड़ दी इसके बाद नेताजी भारत के राष्ट्रीय कांग्रेस के साथ जुड़ गए थे सर्वोच्च प्रशासनिक सेवा को छोड़कर देश के आजाद करने का मुहिम में जुड़ गए। 

सरकारी न्यूज के मुताबिक नेताजी की मौत 18 अगस्त 1945 में एक विमान हादसे में हुआ था। स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को केंद्रीय सरकार ने हर साल 'पराक्रम' रूप में मनाने का फैसला किया है।

   "नेताजी सुभाष चंद्र बोस स्लोगन्स "तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हे आज़ादी दूंगा" और "जय हिन्द".


News Credit: Zee News (YouTube video)