-->

[Live Update] किस प्रकार से करता है काम NATO, क्या यूक्रेन-रसिया क्राइसिस को रोक पाएगा नाटो?

पूरी दुनिया जब विश्वयुद्ध जैसे खतरे से पूरी तरह डर गई थी, तब सब के मन में यह ख्याल आया था, ऐसी खतरा फिर से दुनिया में ना हो इसके लिए दुनिया के कई देशों ने मिलकर संयुक्त राष्ट्र का स्थापना किया और इस संगठन का नाम (NATO) नाटो रखा गया।

किस प्रकार से करता है काम NATO?


30 देशों की सेना के साथ काम करता है, इस संगठन का स्थापना 4 अप्रैल 1949 में हुआ था, और इस संगठन को अटलांटिक आलयस (Atlantic Aalayas) के नाम से भी जाना जाता है।

North Atlantic treaty organisation जिसे हम नाटो के नाम से जान ते हे। जहा 30 देशों के बल शामिल है, इस संगठन का मुख्या कार्यालय बेल्जियम कि राजधानी ब्रुसेल्स मे इस्थित हे। 

जब विश्व युद्ध की घटना हुई थी, तब उसके बाद पूरी दुनिया डर गई थी और पूरे विश्व में विश्व में ऐसी घटना दोबारा ना हो इसके लिए कई देशों ने मिलकर संयुक्त राष्ट्रीय संघ की स्थापना की थी। इस संगठन को मजबूत बनाने के लिए सेना संगठन का निर्माण किया गया। 

इस संगठन के अनुसार अगर कोई देश नियमों का पालन नहीं करता है तो उस देश के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही सैन्य संगठन के द्वारा की जाएगी। इसके लिए इसमें शामिल हुए कई सारे देशों ने अपनी सेना को आपस में साझा करने के बारे में फैसला किया इसी प्रकार से करता है काम NATO उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन।

क्या यूक्रेन-रसिया क्राइसिस को रोक पाएगा नाटो?


टीवी न्यूज़ खबर के मुताबिक यह यूक्रेन-रसिया के बीच छिड़ी गई है जंग, जिसे लेकर पूरी दुनिया में चर्चा चालू है, और तमाम देशों ने आपत्ति जताई है, और तो और रसिया की इस कार्रवाई की निंदा किया है। खबर के मुताबिक रसिया और यूक्रेन ने बंद कर दिया एयर स्पेस क्योंकि डर गया मिसाइल अटैक से। 

उत्तर अटलांटिक संधि संगठन रूस में प्रवेश यूक्रेन टकराव


1. बोरिस जॉनसन ने ट्वीट किया और कहा ब्रिटेन और यूक्रेन को जवाब देगा।

2. मीडिया में आई खबरों के मुताबिक रसिया के हमले में अब तक यूक्रेन में 7 मौतें की जानकारी मिली है।

3. यूक्रेन अन्तर्राष्ट्रीय कानूनों के अनुसार आत्म रक्षा के अपने अधिकार को सकरिया कर दिया है।

4. मीडिया से आई खबर के मुताबिक नाटो की इस कार्रवाई से की पहल के बीच में अमेरिका ने अपनी सेना को यूक्रेन की तरह भेजना शुरू कर दिया है।